माइग्रेन से कैसे छुटकारा पाए? कारण, लक्षण और उपाय जाने

माइग्रेन आधे सिर में होने वाला सबसे तकलीफदेह दर्द होता है। माइग्रेन का दर्द सिर के दोनों तरफ जा एक तरफ होता है। कई बार दर्द इतना भयंकर होता है कि पीड़ित व्यक्‍ति का अपने रोज़मर्रा के काम करना तो दूर, ना तो वह आराम में बैठ सकता है और ना ही आराम से सो सकता है।

माइग्रेन सभी उम्र के लोगो को प्रभावित करता हैं। माइग्रेन कि वजह से दिमाग में रक्त का संचार बढ़ जाता है, अगर समय से इसका इलाज ना किया गया तो ब्रेन टूमओर जैसे बीमारी भी हो सकती है।

 

माइग्रेन के कारण : (Migraine’s Reason in Hindi)

माइग्रेन मूल रूप से तो न्यूरोलॉजिकल समस्या है। इसमें रह-रह कर सिर में एक तरफ बहुत ही चुभन भरा दर्द होता है। माइग्रेन के बहुत सारे कारण हो सकते है जो आपकी स्थितियों और रोगो की वजय से हो सकते है।

जब आप सामान्य स्थिति से एकदम तनाव भरे माहौल मेंं पहुंचते हैं तो सबसे पहले आपका सिर दर्द बढ़ता है। ब्लडप्रेशर हाई होने लगता है और लगातार ऐसा  होने लगे तो माइग्रेन से ग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है।

एलर्जी के कारण भी माइग्रेन हो सकता है और सभी में एलर्जी के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। कुछ लोगों के लिए खाने-पीने की चीजें भी एलर्जी का कारण बन जाती है। जैसे कुछ लोगों को दूध, दूध से बनी चीजें, मशरूम, साग आदि खाने से एलर्जी होती है तो कुछ लोगो को धूल, धुएं से एलर्जी होती है। इसलिए आप को फूड एलर्जी का टेस्ट करवाना चाहिए ताकि आपको पता हो कि आपको किन चीजों से एलर्जी है तो उनका सेवन करने से बचे।

 

माइग्रेन के लक्षण: (Symptoms of Migraine in Hindi)

  1. माइग्रेन के ग्रस्त लोगो को आधे सिर में भयानक दर्द होता है जिसको सहन करना बहुत मुश्किल होता है।
  2. रोशनी और शोर से परेशानी होना।
  3. मन का मचलना।
  4. गैस का बनना जो आपके पेट के माध्यम से सिर तक जाती है।
  5. उल्टी का आभास होना।
  6. पर्याप्त नींद ना आना।

माइग्रेन में क्या खाये और क्या ना: (What Should We Eat)

माइग्रेन का सबसे बड़ा कारण फूड एलर्जी है, जिसके लिए आपको फूड एलर्जी टेस्ट करवाना चाहिए ता जो आपको पता हो कि क्या क्या खाना चाहिए। माइग्रेन ग्रस्त लोगो को ताजा फल, ग्रीन सब्जियां, सलाद, मांस, मछली आदि खाना चाहिए।

 

माइग्रेन से छुटकारा: (Treatment of Migraine in Hindi)

माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए अंतर्ध्यान ही सबसे दवा है। अंतर्ध्यान के लिए आप योग और व्यायाम करें, जिससे आपका तनाव कम होगा। अगर आपने तनाव कम कर लिया तो समझो माइग्रेन से आधा छुटकारा पा लिया।

आप न्यूरोलॉजिस्ट से मिले और उनके बताए निर्देशों के अनुसार ही चलें। अपने मन से कोई भी दर्द निवारक गोली लेना आपके लिए हानिकारक हो सकता है।